भेड़िया के बारे में जानकारी -information About Wolf in hindi - specialgujarati.in

Latest

Thursday, 23 January 2020

भेड़िया के बारे में जानकारी -information About Wolf in hindi

information About Wolf in hindi(भेड़िया के बारे में जानकारी )


नमस्कार दोस्तों इस पोस्ट में हमने नमस्कार दोस्तों आज के इस पोस्ट में हमने भेड़िया के बारे में जानकारी इकट्ठी की है जो आपको बहुत पसंद आएगी बात कहां पाए जाते हैं कितने प्रकार के होते हैं वह सब जानकारी हमने इस पोस्ट में दी गई है तो यह पोस्ट आप पूरा पड़ेंगे ऐसी हम उम्मीद करते हैं Wolf के बारे में पूरी इंफॉर्मेशन के लिए यह पोस्ट पूरा जरूर पड़ेगा जिससे आपको Wolf के बारे में पूरी नॉलेज हो जाएगी और आप जान सके एक बात क्या है और कहां रहते हैं

Wolf के बारे में हिंदी में हमने पूरी इंफॉर्मेशन दी है तो हिंदी में Wolf information  लिए यह पोस्ट पूरा पढ़ना जरूरी है और ऐसे ही अन्य प्राणियों के बारे में हिंदी में इंफॉर्मेशन के लिए आप हमारे ब्लॉक को फॉलो जरूर करें यहां पर हमें ऐसे ही बहुत सारे इंफॉर्मेशन आपके साथ शेयर करते रहते हैं

एक विद्वान ने वर्षो तक भेडियो का अध्ययन करने के बाद लिखा है कि उनके सिर , कान ,केश , भौहे ,दांत और पूंछ के लिए बहुत कठोर नियम होते है | पूंछ कब कैसी रहे और कितने दांत खुले रहे , ये सब बाते उनकी जाति नियमो के अनुसार होती है | कोई भी निचले स्तर का भेड़िया , किसी भी भेड़िया सरदार के सामने अपनी पूंछ उठाये नही आ सकता | यद्यपि इसकी सजा में मृत्युदंड तो नही दिया जाता लेकिन उस मुर्ख भेडिये की अक्ल ठीक कर दी जाती है | तब उस भेडिये को अपनी दुम दबाकर रखनी पडती है जैसे पेट से गोंद चिपकी हो |
अधिकतर भेडिये कनाड़ा ,एशिया और पूर्वी यूरोप में मिलते है | अमेरिका के अनेक राज्यों और अलास्का में भेडियो की काफी संख्या है |
भेडिये बहुत ही कुशल और सफल शिकारी है | अमेरिका के भेडियों ने वर्षो तक हजारो पशुओ को अपना शिकार बनाया है | एक ही रात में सौ-सौ भेड़ो को मार डालना यहा के अकेल खूनी भेडिये के लिए आसान बात है |
अमेरिका के भेडिये भूरे भेडिये कहे जाते है किन्तु वास्तव में इनका रंग लाल होता है | कभी कभी बहुत ही हल्के भूरे रंग के भेडियों को देखकर राहगीर को कुत्ते का भ्रम हो जाता है और वह उसके घेरे में फंस जाता है |
भेडियों में बेहद सहनशक्ति होती है जरूरत पड़ने पर यह पुरी रात दौड़ता रहता है और भागता है | तब इसकी गति 15 से 20 मील प्रति घंटे होती है |
भेडिये का वजन 100-200 किलोग्राम तक होता है | अलास्का के भेडिये 8 फीट तक लम्बे होते है |
2 या 3 वर्ष की उम्र में भेड़िया अपना जोड़ा बना लेता है | प्राय: बसंत के अंत तक इनके बच्चे पैदा होते है | एक बार में 4 से 14 बच्चे होते है जिन्हें 2 महीने तक माँ दूध पिलाती है और पिता जंगलो में अकेला ही शिकार ही तलाश में जाता है | जब वह शिकार कर लेता है तो उसे घसीटकर अपने डेरे तक लाता है |
जब बच्चे बड़े हो जाते है तब माँ भी शिकार में मदद करती है क्योंकि बच्चो को ज्यादा भूख लगती है और माँस की ज्यादा जरूरत पडती है |
पिता भेड़िया जब फुर्सत में रहता है तो वह अपने डेरे की रखवाली करता हुआ किसी ऊँची जगह पर बैठा रहता है | खतरा देखते ही , चिल्ला-चिल्लाकर वह अपन पुरे परिवार को सावधान कर देता है | उस वक़्त अगर कोई आदमी नजर आ जाए तो भेडिया उसका ध्यान बंटाने के लिए सामने आ जाता है और उस आदमी को दुर ले जाता है |
जब बच्चे बड़े हो जाते है तब परिवार खुली जगह में आ जाता है और अक्सर 200 वर्गमील के क्षेत्र में घूमता हुआ निरंतर पहरा देता रहता है | वह हर ऊँची जगह छिपने के स्थान और ऐसी मैदानी घास से परिचित होता है जिससे उसके शरीर का रंग मिलता जुलता है | इन जगहों में वह अपने बच्चो को शिकार की शिक्षा देता है |
यदि उनके क्षेत्र में कोई दूसरा अनजान भेडिया आ जाए तो वह जिन्दा बचकर नही जा सकता | भेड़िया परिवार के सभी बच्चे माता-पिता के साथ रहते और घूमते है | एक परिवार में पाँच से दस तक बड़े भेडिये और कई छोटे बच्चे होते है | कई बार रिश्तेदार भी परिवार के साथ रहते है |
भेडिया अपने परिवार से जितना प्यार करता है उतना दूसरा कोई पशु नही करता है |परिवार या गिरोह के दुसरे भेडिये की रक्षा में जान दे देना भेडिये के लिए साधारण बात है |
भेड़िया बहुत ही शक्तिशाली होता है | इसके दांत बहुत ही तेज , नुकीले और फौलाद की तरह मजबूत होते है | एक ही बार में यह किसी पशु की रीढ़ या टांग अपने मुंह से काट सकता है |
भेडिया खाने भर के लिए शिकार नही करता बल्कि खेल के लिए भी शिकार करता है | कई भेडिये मिलकर किसी पशु की खोज में निकलते है और जब उन्हें कोई शिकार नजर आता है तो दो-तीन भेडिये हवा का रुख बचाकर चुपके-चुपके शिकार के पास पहुचते है | शिकार भागता है तब सभी भेडिये उसका पीछा करते है और बाकी भेडिये दूर-दूर फैलकर घेराबंदी करते है | शिकार चारो तरफ दौडकर थक जाता है | भेडिये उस पर झपटते है और प्राय: कुछ उसकी गर्दन पर और कुछ पिछले भाग पर हमला करते है |
शिकारी भेडियो के गिरोह का आपसी सहयोग अत्यंत आश्चर्यजनक होता है | बहुत ही कुशल शिकारी की तरह वे अपना मोर्चा सम्भालते है और परस्पर संकेत देते है | सम्पर्क बनाये रखने का भी उनका अपना तरीका है | वे अपने शिकार से खूब खेलते है | भेडियों की नजर बहुत तेज होती है | उनकी सूंघने की ताकत भी गजब की होती है |
भेडिये गार्ड डॉग्स नही बन सकते है क्योंकि सामान्यत: अनजान व्यक्तियों की तरफ भौंकने के बजाय छुपने की प्रवृति रखते है |
भेडिये के बच्चे की जन्म के समय आँखे नीली होती है जो आठ महीने का होने के बाद पिली हो जाती है |
भेडिये अपने पंजो पर दौड़ते है ताकि वो आसानी से रुक सकते और दुसरी दिशा में मुड़ सके |
विशेष परिस्तिथियो में भेडिये छ मील दूर तक की आवाजे सुन लेते है और खुले टुन्ड्रा मैदानों में तो ये दस मील दूर तक की आवाज सुन लेते है |
एक समय में भेदिये विश्व में लगभग सभी हिस्सों में पाए जाते है केवल रेगिस्तानी इलाको में और वर्षावनो में वो नही घूमते है |
एक भूखा भेड़िया एक बार में 20 पौंड मांस खा सकता है | भेड़िये 13 किमी दूर तक तैर सकते है |
1600 में आयरलैंड को वुल्फ-लैंड कहा जाता था क्योंकि यहा अनेको भेडिये रहते थे | उस दौर में वुल्फ हंटिंग एक लोकप्रिय खेल भी था |
1883 से 1918 तक मोंटाना में बौन्टी के लिए 80 हजार भेडिये मार गिराए गये |
सबसे छोटे भेडिये मिडिल ईस्ट इलाको में रहते है जिनका वजन 30 पौंड तक होता है जबकि सबसे बड़े भेडिये कनाडा , अलास्का और सोवियत यूनियन में रहते है जिनका वजन 175 पौंड तक होता है |
प्राचीन ग्रीक में ऐसी मान्यता थी कि कोई भी भेडिये की मारी हुयी भेड़ का माँस खाता है तो उसके वैम्पायर बनने की सम्भावना ज्यादा रहती है |
आज भी 6000 से 7000 भेडिये की खाल को पुरे विश्व में बेचा जाता है | ये खाले मुख्यत: रूस , मोंगोलिया और चीन से आती है जिसका उपयोग कोट बनाने में होता है |
भेडिये अमेरिका की 1973 में जारी लुप्त प्रजातियों की लिस्ट में सबसे पहला जानवर था |
वर्तमान में कनाडा में 50 हजार भेडिये , अलास्का में 6500 , और 3500 निचले 48 प्रदेशो में मौजूद है |
जब भेड़िया अकेला शिकार करता है तो यह छोटे जानवरों को पकड़ता है जैसे ख़रगोश , गिलहरी , पक्षी , मछली और झुंड में यह बड़े जानवरों का भी शिकार करते हैं ।
यह बड़े ही तेज़ शिकारी होते हैं मनुष्यों को छोड़कर किसी अन्य स्तनपायी की तुलना में यह दुनिया में सबसे ज्यादा जगहों पर पाया जाता है ।..
काले रंग के भेड़िये बाकी भेड़ियों से काफी खूंखार होते हैं ।
जंगली सूअर , चीतल , मवेशी आदि इनका मुख्य शिकार होते हैं ।
अकेला भेड़िया 9 किलो से भी ज्यादा मांस खा सकता है।
भेड़िये में लगभग 200 मिलियन गंध कोशिकाएं होती हैं यहीं इन्सान में 5 मिलियन होती हैं भेड़िये अन्य जानवरों की तुलना में 1.6 की अधिक दूरी पर भी सूंघ सकते हैं ।
मादा भेड़िया और नर भेड़िया उम्रभर एक साथ रहते हैं

हम उम्मीद करते हैं कि आपको हमारा हम उम्मीद करते हैं कि आपको हमारा Wolf information in Hindi यह पोस्ट बहुत ही पसंद आया है अगर पसंद आए हैं और ऐसे ही इंटरेस्टिंग और इंफॉर्मेशन के लिए अरे ब्लॉक को फॉलो जरूर कर ले आओ मैं इस ब्लॉग पर ऐसे ही बहुत सारे इनफॉर्मेटिव पोस्ट पब्लिश करते रहते हैं तो आपको यह हमारा पोस्ट कैसा लगा वह पोस्ट के नीचे कमेंट करके जरूर बताएगा। तो मिलते हैं आपसे एक नये पोस्ट के साथ। तब तक के लीए Take care.... 

No comments:

Post a Comment